जीवन में सफलता के सूत्र | Safalta Kaise Paye in Hindi, सफलता कैसे प्राप्त कर सकते हैं ?

सफलता यानि Success – सुनने में सिर्फ चार अक्षरों से मिलकर बना हुआ शब्द प्रतीत होता है। किन्तु इसकी असली कीमत सिर्फ तरह दो लोग जानते है। एक वह जो कड़ी मेहनत और खून पसीना और समय लगाकर प्राप्त करते है। और दूसरे जो अपनी कड़ी मेहनत और खून पसीना और समय लगाकर भी सफल नहीं हो पाते है। हम क्यों असफल हो जाते है। इसके पीछे का कारन क्या है। जिस दिन हम यह सवाल खुद से पूछेंगे। उसी दिन सफलता की चाभी आपके हाथ लगेगी। लोग कहते है कि – सफलता प्राप्त करने के लिए घर के दरवाजे पर घोड़े की नाल या दौड़ते हुए घोड़े की फोटो लगाओ। लेकिन आज का समय कहता है। की यदि जीवन हो या कोई परीक्षा , अगर आप सफल होना चाहते हो तो घोड़े की नाल को घर के दरवाजे पर नहीं बल्कि अपने पैरों पर ठोक लो। और दौड़ते हुए घोडे की तस्वीर नहीं बल्कि सुबह होते ही घोड़े की तरह दौड़ना और मेहनत करना शुरु कर दो। चलिए आज हम अपने जीवन में उन कमियों का विश्लेषण करें। जो हमारी प्रगति में बाधक है।



मानव जीवन में असफलता का मुख्य कारण क्या है?

दोस्तों एक कहावत है की – तन से थका – हरा व्यक्ति फिर से लड़ सकता है। और जीत सकता है, सफल हो सकता है। लेकिन मन से थका – हरा व्यक्ति व्यक्ति दोबारा कभी नहीं लड़ सकता है। क्योंकि उसने ये मन लिया है की वह नहीं कर सकता है। मानव जीवन में सफलता एवं असफलता हमारी सोंच पर निर्भर करती है। मन लो तो हार , ठान लो तो जीत।

सफल एवं असफल व्यक्ति में अंतर क्या है।

दोस्तों अगर आप कभी भी ( जब आपका मन हो ) ये जानना चाहें की , सफल एवं असफल व्यक्ति में अंतर क्या है। तो किसी दो ऐसे व्यक्ति से मिलिए जो पढ़ा लिखा हो और अपने दम पर कुछ किया हो। फिर किसी ऐसे व्यक्ति से मिलिए जो अपने दम पर कुछ न किया हो। चाहे उसे विरासत में लाखों करोड़ो ही क्यों न मिला हो। आपको दोनो में अंतर समझ आ जायेगा। नीचे सफल एवं असफल व्यक्ति में कुछ अंतर बताये गए है। उन्हें ध्यान से पढ़ें।

  • एक सफल व्यक्ति हमेशा अपने काम , घर , एवं परिवार के प्रति जिम्मेदार रहता है। एवं अपना सभी कार्य अच्छे व समय से पूर्ण करता है। वही असफल व्यक्ति कभी भी अपने काम, घर, एवं परिवार के प्रति जिम्मेदार नहीं होता है।
  • सफल व्यक्ति हमेशा गलती होने पर खुद की गलती को स्वीकार करते है। एवं किसी भी गलती से सबक लेते है। जबकि असफल व्यक्ति हमेशा अपनी गलतियों का ठीकरा दूसरे के सर पर फोड़ने की फ़िराक में रहता है। एवं किसी भी गलती से कोई सबक नहीं लेते है।
  • एक सफल व्यक्ति हमेशा समय की कीमत करता है। अगर उसने किसी का टाइम लिया है। या अपना टाइम किसी को दिया है। तो दोनों के लिए पाबंद रहता है। लेकिन असफल आदमी कभी भी समय की कीमत नहीं करता है। इनकी एक अस्पष्ट निशानी यह है की, यह कभी भी कोई काम समय से नहीं करते है। और न नहीं दूसरे के समय की कीमत समझते है। इन्हे लगता है जैसे इनके पास फालतू समय है। ऐसे ही सबके पास है। इसलिए हमेशा परेशान रहते है।
  • सफल आदमी हमेशा खुद की कमियों को ढूंढते है। और उसमे सुधार करने की कोशिश करते है। लेकिन असफल आदमी खुद की कमियों को ढूंढने की जगह दूसरों में बुराइया ढूंढते है। जिससे वो कभी कभी सुधार नहीं कर पाते है।
  • इतिहास कहता है। सोना तभी 24 कैरेट खरा बनता है। जब वह कष्ट भरी आग में तपता है और अपनी अशुद्धियों को दूर करता है। इसलिए जब तक आलस , और लापरवाही की अशुद्धियाँ आपके अंदर रहेंगी। आप कभी भी आगे नहीं बढ़ पाएंगे।

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए कौन सा गुण आवश्यक है और क्यों?

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए आवश्यक है कि – मेहनत सही दिशा में करें। गलत दिशा में की गयी मेहनत सदैव व्यर्थहीन परिणाम ही देती है। जैसे – हम गड्ढा खोदें और उसमे पानी ही न निकले तो क्या फायदा। इसलिए किसी भी कार्य को करने से पहले उसके आगे पीछे का जरूर सोंचे। देखा देखी , किसी को सफल होता देखकर कभी भी उस क्षेत्र में प्रवेश न करें। आप अवश्य ही असफल होंगे। इसका कारण है कि – आपने उसकी सफलता तो देख लिया। किन्तु उसे वह सफलता कैसे मिली , उसने कितना दिन मेहनत किया। उसे क्या क्या खोया। इससे आप अनजान है। इसलिए आप किसी को सफल होता देखकर देखकर उस क्षेत्र में उतर तो सकते है। किन्तु उसमे होने वाली मेहनत और क़ुरबानी के बारे में जानकारी होने पर आप सफल नहीं होंगे। क्योंकि आपके इरादे कमजोर होंगे। इसलिए इरादों को मजबूत अवश्य बनायें।

लालच का परित्याग करें।

दोस्तों – सफलता और पैसे का कोई तालमेल नहीं है। सफलता से पैसा मिल सकता है। लेकिन पैसे से सफलता कभी नहीं मिलती है। इसलिए अगर मन में सफलता पाने की चाहत है तो लालच का परित्याग कर दें। और यदि मन में लालच है। की मुझे पैसे ही कमाना है। मैं इस क्षेत्र में पैसे के लिए आया हु। तो अपने मन और जीवन से सफल होने के सपने का परित्याग कर दें।

लेखक के जीवन की एक घटना।

मैंने 22 अप्रैल 2020 को अपना YouTube चैनल शुरू किया था। मुझे शुरूआती 6 महीने तक कोई भी पैसा नहीं मिला था। और न ही मेरे मन में कोई लालच आया था। आज मुझे हर महीने यूट्यूब से 20 से 25 हजार मिल जाते है। मुझे यूट्यूब में काम करते हुए 1 साल 8 महीने हुए है। वही मैंने सुना था यूट्यूब में देखा था की ब्लॉग में यूट्यूब के मुकाबले ज्यादा पैसा मिलता है। और जल्दी मॉनिटाइज ( मुद्रीकरण ) हो जाता है। जिससे मैं बिना किसी प्लान के वेबसाइट बना लिया। और उसपे 5 से 10 आर्टिकल लिख दिया। और लालच में आकर जल्दी से मॉनिटाइजेशन के अप्लाई कर दिया। मुझे 14 बार रिजेक्ट किया गया। और लास्ट में जब मेरे यूट्यूब मॉनिटाइजेशन का समय आया तो मैंने अप्लाई किया मेरा मॉनिटाइजेशन दो दिन में अप्रूवल मिल गया। इससे मैंने सीखा की किसी चीज में सफल होना है। तो लालच अवश्य छोडना होगा।

सफलता के लिए आवश्यक गुण

यदि आप सच में जीवन में सफल होना चाहते है। तो निम्नलिखित नियमों को आज से ही पालन करना शुरू कर दें। और यह नियम लगातार 21 दिन तक फॉलो करना है।

  1. रोज सुबह सूर्योदय से पूर्व उठना प्रारम्भ कर दें। कुछ दिन तकलीफ होगी लेकिन बाद में अच्छा लगने लगेगा।
  2. रोजाना व्यायाम एवं सूर्य नमस्कार करना प्रारम्भ कर दें। और रोज आधे घंटे सूर्य की रौशनी लें। इससे शरीर की अशुद्धियों का पतन होता है।
  3. किसी भी दशा में सुबह 8 बजे से पहले स्नान अवश्य कर लें। और नित्य भगवान की पूजा, स्मरण और ध्यान अवश्य करें। ( भगवान की पूजा करने वाला कभी चरित्रहीन नहीं हो सकता है। )
  4. सदैव समय और अपनी जबान के पक्के बने। किसी को व्यर्थ में कोई वचन देकर न फंसे। और न किसी का समय व्यर्थ करें। और यदि किसी को कोई वचन दें तो उसे हर स्थिति में पूर्ण करें। इससे आप सच्चे और विश्वासपात्र बनेंगे।
  5. अपनी कमियों एवं गलतियों को माने और सुधारने का प्रयत्न करें। अपनी गलती को कभी न छुपाएं। यह आपके लिए कैंसर से भी घातक हो सकती है।
  6. यदि आपके अंदर कोई गलत आदत है। तो उसे आज ही छोड़ने का कठोर निर्णय लें। कोई भी बुरी आदत आपकी इच्छाशक्ति से बड़ी नहीं हो सकती। बस देर है की उसे जगाने की। इसलिए अपनी इच्छाशक्ति की मदद से आज ही गलत आदतों का परित्याग करें।
  1. आपका सबसे बड़ा मित्र आपका मस्तिष्क और आपका ज्ञान है। इसको सही दिशा दें। इसकी सहायता से आप दुनिया को झुका सकते है।
  2. अपना समय और ज्ञान लोगो को समझने, ज्ञान देने, सफाई देने, या अपने को सही साबित करने में कभी न खर्च करें। इतिहास गवाह है की भगवान राम भी सबको खुश नहीं कर सके थे। तो आप तो इंसान है। इसलिए आप अपने में ही खुश रहना सीखें।
  3. कभी अपनी खुश रहने की वजह किसी दूसरें को न बनायें। क्योंकि जब वह आपको छोड़कर जाएगा। तब आप अकेले में कभी खुश नहीं रह पाएंगे। ( इसलिए कहावत कही गयी है की – उधार की ख़ुशी, परमानेंट के गम से ज्यादा हानिकारक होती है। )
  4. दुखी और अधिक ख़ुशी, दोनों के ही समय इंसान का दिमाग काम करना बंद कर देता है। इसलिए परिस्थितिओं में समानता बनायें रखें।
  5. अपने अंदर अहंकार कभी न आने दें। हमेशा जमीन से जुड़े रहें।

दोस्तों उम्मीद है यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। अगर आपके मन में कोई सवाल है। तो अवश्य पूछें आपको रिप्लाई मिलेगा।

By Suraj Pandey

My Solution Hindi - Online Internet Ki Jankari, Hindi Me Jankari, Blogging in Hindi, Online Shopping Tips, SEO, Make Money, Google Adsense, Job, Lifestyle, Internet, Tips and Tricks, Technical, Smartphone, Computer, Laptop, Online Banking, YouTube Channel, Website, Blogger, Social Media Activities, Latest, and more info.

One thought on “जीवन में सफलता के सूत्र | Safalta Kaise Paye in Hindi, सफलता कैसे प्राप्त कर सकते हैं ?”

Leave a Reply

Your email address will not be published.